तीन छोटी परियों की कहानी | pariyon ki kahan

0
13
तीन छोटी परियों की कहानी pariyon ki kahan

तीन छोटी परियों की कहानी (Hindi Kahaniyan) : बहुत दूर एक छोटे से शहर में तीन नन्ही परियां रहती थी। जिनका नाम पिंक,वैलट और फ़्लोरा था। उनकी पारी माँ ने उनको इंसानो के साथ रहने के लिए धरती पर भेजा था। ताकि ओ सही मायनी में परी बनना सिख सकें। ओ तीनो अपना घर चलाने के लिए इंसानो की तरह ही फूलो की दूकान पर फूल पहुंचाने का काम करती थी।

एक दिन की बात है उस दिन मौसम भी बहुत खूबसूरत था , जिससे उनका मन खेलने का किया। इसलिए ओ तीनो एक सुनसान जगह पर चली जाती है जहाँ कोई भी इंसान न हो। वहां जाकर तीनो अपने असली पारी रूप में आकर खेलने लगती है। उनमे से एक पारी दूसरे पारी से पूछती है की तुम्हे क्या चाहिए ? तो दूसरी परी कहती है की मुझे थोड़ी सी सूरज की रोशनी चाहिए। फिर ओ पारी उसे रोशनी लाकर दे देती है। फिर दुबारा से पहली पारी पूछती ही की और क्या चहिये ? तब फिर से ओ परी कहती है की थोड़ा सा शहद और माँ के हाथ का प्यार भरा अहसास। तो ये भी लाकर दे देती है। फिर तीनो परियां वहां से जाने लगती है , लेकिन फिर एक परी को याद आता है और ओ कहती है ओह ओस की बून्द तो भूल ही गयी अभी लेकर आती हूँ। इतना कहकर ओ ओस की बून्द लाने चली जाती है , ओस की बून्द लाने के बाद तीनो परियां वापस से शहर में लौट आती है और सभी दुकानों पर फूल भी पहुंचा देती है।

इसे भी पढ़ें :-   परी का दिया जादुई मसाला | Hindi Kahaniyan

अगले दिन ओ तीनो देर से जागती है लेकिन इस दिन उनका जादू गायब होता है , जब ओ तीनो जागती है तो घडी देखने के बाद घबरा जाती है की आज हम फूल कैसे पहुंचाएंगे। लेकिन उनमे से एक पारी बोलती है, कोई बात नहीं हम अभी भी जल्दी पहुँच सकते हैं। ओ तीनो जादू करने के लिए तीन बार ताली बजाती है लेकिन कोई जादू नहीं होता है। जिसकी वजह से वह अपने काम पर देर से जाती है और उसे डाट भी पड़ती है। जिसके कारन से उस दिन उनको बाकि की इंसानो की तरह ही सभी दूकान पर बिना किसी जादू के फूल पहुंचाना पड़ता है। आज ओ तीनो बहुत थक गयी थी पसीना टपक रहा था। लेकिन आज उन्हें अहसास हुआ की कल तक ओ कितने ऐस की जिंदगी जी रही थी ,परन्तु इस दिन ओ तीनो परियां बहुत कुछ सीखती है।

घर वापस जाते समय उन्हें रास्ते में एक भिखारी दिखाई देता है जो बोल रहा था की भगवान् के नाम पर कुछ देदो वहीँ दूसरी तरफ एक लड़का छोटे बच्चे को डरा रहा था और उससे उसका खिलौना मांग रहा था। कुछ दूर जाने पर उन्हें एक औरत दिखाई देती है जो दवाखाने पर दवा लेने गयी थी लेकिन उसके पास पैसे नहीं होने के कारण उसे दवा देने से मना कर रहा था। परन्तु वह महिला उससे कह रही थी की ओ कुछ दिनों में दवाई के पैसे दे देगी क्योंकि उसका बेटा बहुत बीमार था। बहुत मनाने के बाद भी उस महिला को डाट कर वहां से भगा देता है। ये सब देख तीनो परियों के पैरो तले जमीं खिसक जाती है। और उन परियों को यह अहसास होता है की मस्ती मस्ती में तो उन्होंने असली दुनिया पर ध्यान ही नहीं दिया बस ओ अच्छा बनने और लोगो को खुश करने में लगी रही। परन्तु ओ तीनो हर तरह से उनलोगो की मदद करने लगी। एक परी अपना पैसा महिला को दे देती है और उससे कहती है की इस पैसे से आप अपने बेटे के लिए दवाई ले लेना।

इसे भी पढ़ें :-   परियों की बारात जादुई परियों की कहानी | Hindi Kahaniyan

अब हर दिन ओ तीनो परियां एक आम इंसान की तरह ही काम करने लगी और अपने कमाए हुए पैसे से जरुरतमंद लोगो की मदद करने लगी। उन तीनो परियों में बहुत बदलाव आ रहा था। जिसे देख उनकी परी माँ बहुत खुश थी ,लेकिन अब ये परियां बहुत दुखी होने लगी। उसमे से एक पारी कहती है की इस दुनियां में इन्साफ ही नहीं है। इतने में ही दूसरी परी कहती है , की बिलकुल सही कह रही हो हम हर दिन कोसिस करते हैं अच्छा करने की लेकिन लोगो का दर्द काम ही नहीं हो रहा है जैसे की कुछ ना कुछ कमी रह जाती है। लेकिन अब हम करें तो क्या करें , तभी कमरे में तेज रोशनी होती है और ओ देखती है की उनके सामने रानी माँ आयी है।

अपनी परी माँ को देख कर तीनो परियां कहती है परी माँ आप यहाँ ? यह सुन परी माँ उनको कहती है की मैं बहुत खुश हूँ क्योंकि तुम वही कर रही हो जो एक पारी को करना चाहिए। पहले तुम अपनी ही दुनिया में मगन थी , तुम्हे लगता था की परी बनने का मतलब जादू है। इसलिए मुझे तुम्हे सबक सिखाने के लिए तुम्हारी शक्तियां छीननी पड़ी। लेकिन अब तुम बदल गयी हो इसलिए मैं तुम्हारी शक्तियां वापस देती हूँ। लेकिन उससे पहले मैं तुम्हे कुछ बताना चाहती हूँ , तुम जितने चाहो लोगो की मदद कर सकती हो लेकिन वह काफी नहीं होगा। क्योंकि तुम्हारा मदद करने का तरिका गलत है। इंसान उम्मीद पर जिन्दा रहते हैं इसलिए तुम उन लोगो को उम्मीद दिलाओ। ओ भिखारी बासुरी बजाने में बहुत अच्छा है लेकिन उसकी किस्मत ने उसका साथ नहीं दिया, इसलिए तुम उसे उम्मीद दिलाओ की आज नहीं तो कल उसकी किस्मत उसका साथ जरूर देगी और उसके साथ अच्छा होगा।

इसे भी पढ़ें :-   सिंडरेला का लहंगा और झुमके | pariyon ki kahani hindi

सीख :- इंसान को उम्मीद बनाये रखना चाहिए और लगातार परिश्रम करते रहना चाहिए। जो इंसान लगातार परिश्रम करता है वह कभी ना कभी कामयाब जरूर होता है।

सभी परियों की कहानी हिंदी में पढ़ें।